कम बोलो, धीरे बोलो, मीठा बोलो            सोच के बोलो, समझ के बोलो, सत्य बोलो            स्वमान में रहो, सम्मान दो             निमित्त बनो, निर्मान बनो, निर्मल बोलो             निराकारी, निर्विकारी, निरहंकारी बनो      शुभ सोचो, शुभ बोलो, शुभ करो, शुभ संकल्प रखो          न दुःख दो , न दुःख लो          शुक्रिया बाबा शुक्रिया, आपका लाख लाख पद्मगुना शुक्रिया !!! 
Showing posts with label Today Murli. Show all posts
Showing posts with label Today Murli. Show all posts

Avyakt Murli 26-8-12


26/08/12      Madhuban   Avyakt BapDada    Om Shanti     11/02/75

Dharna for the Pandavas who battle with Maya.
Do you experience in your life at the present time the specialities that the Pandavs have been remembered for from the previous cycle? VVhat is the significance of the memorial of the Pandavas having melted themselves on the mountain? In which aspect did they melt themselves? Memorials of something subtle are shown in a physical form. Just as there are physical memorials of those who have been in the living form, in the same Way, examples are given to clarify something subtle. Are you not able to make yourself an embodiment of success because of the obstacles that come to the efforts of you effort-makers? Or, do you repeatedly experience a lack of success due to a particular nature or sanskar, which you refer to as your original sanskar or nature. To melt your original sanskars means to melt yourself so that those who see you or come into contact with you feel that this soul has melted themselves. There is success in this.

अव्यक्त मुरली 26-8-12


2 6 -0 8 - 12   प्रात:मुरली  ओम् शान्ति  "अव्यक्त-बापदादा”  रिवाइज: 1 1 - 0 2 - 7 5 मधुबन

माया से युद्ध करने वाले पाण्डवों के लिए धारणायें

पाण्डवों के लिये जो कल्प पाले का गायन है, क्या वह सब विशेषताये वर्तमान समय जीवन में अनुभव होती हैं? यह जो गायन है कि उन्होंने पहाडों पर स्वयं को गलाया- इसका रहस्य क्या है? किस बात में गलाया? सूक्ष्म बात का ही यादगार स्थूल रूप में होता है। जैसे चैतन्य का यादगार स्थूल में होता है,  वैसे ही सूक्ष्म को स्पष्ट करने के लिये दृष्टान्त दिया जाता है । स्वयं को सफलता मूर्त बनाने के निमित्-पुरुषार्थियों के पुरूषार्थ में जो विघ्न सामने आते है, उन विघ्नों के कारण क्या  स्वयं को स्रफलतामूर्त नहीं बना सकते है? या बार-बार उसी स्वभाव व संस्कार के कारण असफलता होती है जिसको निजी संस्कार व नेचर कहा जाता है । तो ऐसे निजी संस्कारों को गलाना अर्थात स्वयं को गलाना जिससे देखने या सम्पर्क में आने वाले यह महसूस करें' कि इस आत्मा ने स्वयं को गलाया है । इसमें सफलता है !

Murli of August 25, 2012

25-8-2012:

 

Essence: Sweet children, if you want to become a master of heaven, promise the Father that you will become pure and definitely become His helper, that you will be His worthy child.


Question: For whom does the tribunal sit at the end in order for them to clear their accounts?


Answer: Who would file a case against those who kill so many with bombs in anger? This is why a tribunal sits for them at the end. Everyone settles their own karmic accounts and returns home.


Question: Who becomes worthy of going to the land of Vishnu?


Answer: 1) Those who live in the old world and yet do not attach their hearts to it. It remains in their intellects that they must now definitely become pure because they are to go to the new world.
2) It is this study that makes you worthy of going to the land of Vishnu. You study in this birth and receive a status in your next birth from this study.
Song: You are the Mother and Father.

Essence for dharna:
1. Very little time remains; that is why you have to change from thorns into flowers, make everyone into flowers and show them the path to the land of peace and the land of happiness.
2. In order to go into the clan of Vishnu, perform good deeds. Definitely become pure. Remain constantly engaged on this spiritual pilgrimage and inspire others to do the same.

Blessing: May you be a contented soul who observes the variety of cartoon shows of Maya and matter as a detached observer.


At the confluence age, the special gift from BapDada is contentment. In front of a contented soul any situation of upheaval would be experienced to be like a puppet show. Nowadays, there is a fashion for cartoon shows. So, whenever a situation arises, always think that a cartoon show or a puppet show is being shown on the unlimited screen. This is one show of Maya and matter which you have to see while being stable in the stage of a detached observer, while maintaining your honour and being an embodiment of contentment. Only then would you be called a contented soul.


Slogan: To remain beyond any type of defect is to become perfect.

 

 

 

25-8-2012:


प्रश्न: किन्हों का हिसाब-किताब चुक्तू कराने के लिए पिछाड़ी में ट्रिब्युनल बैठती है?


उत्तर: जो क्रोध में आकर बाम्ब्स से इतनों का मौत कर देते हैं, उन पर केस कौन करे! इसलिए पिछाड़ी में उनके लिए ट्रिब्युनल बैठती है। सब अपना-अपना हिसाब-किताब चुक्तू कर वापिस जाते हैं।


प्रश्न:- विष्णुपुरी में जाने के लायक कौन बनते हैं?


उत्तर:- जो इस पुरानी दुनिया में रहते भी इससे अपनी दिल नहीं लगाते, बुद्धि में रहता अब हमें नई दुनिया में जाना है इसलिए पवित्र जरूर बनना है। 2- पढ़ाई ही विष्णुपुरी में जाने के लायक बनाती है। तुम पढ़ते इस जन्म में हो। पढ़ाई का पद दूसरे जन्म में मिलता है।


गीत:- तुम्हीं हो माता...


धारणा के लिए मुख्य सार:


1)
समय बहुत थोड़ा है इसलिए कांटे से फूल बन सबको फूल बनाना है। शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताना है।
2)
वैष्णव कुल में जाने के लिए अच्छे कर्म करने हैं। पावन जरूर बनना है। सदा रूहानी यात्रा करनी और करानी है।


वरदान: माया वा प्रकृति के भिन्न-भिन्न कार्टून शो को साक्षी बन देखने वाले सन्तोषी आत्मा भव


संगमयुग पर बापदादा की विशेष देन सन्तुष्टता है। सन्तोषी आत्मा के आगे कैसी भी हिलाने वाली परिस्थिति ऐसे अनुभव होगी जैसे पपेट शो (कठपुतली का खेल)। आजकल कार्टून शो का फैशन है। तो कभी कोई भी परिस्थिति आए उसे ऐसा ही समझो कि बेहद के स्क्रीन पर कार्टून शो वा पपेट शो चल रहा है। माया वा प्रकृति का यह एक शो है, जिसको साक्षी स्थिति में स्थित हो, अपनी शान में रहते हुए, सन्तुष्टता के स्वरूप में देखते रहो - तब कहेंगे सन्तोषी आत्मा।


स्लोगन: किसी भी प्रकार के डिफेक्ट से परे रहना ही परफेक्ट बनना है।

 

 

Song:Tumhi ho mata pita tumhi ho... You are the Mother and the Father… तुम्ही हो माता पिता तुम्हीं हो....http://www.youtube.com/watch?v=hQfsFAUnR0I&feature=email


Murli of August 24, 2012

24-8-2012:
Essence: Sweet children, the Father's orders are: Become soul conscious. Become pure and enable everyone else to become pure. Have faith in the intellect and claim your full inheritance from the Father.
Question: At the end, when leaving the body, who will have to cry in distress?
Answer: Those who don't die alive and make full effort and don't claim their full inheritance will have to cry in distress at the end.

Question: Why are there so many types of fighting and quarrelling and partition etc. at this time?

Answer: Everyone has forgotten their real Father and become orphans. They have forgotten the Mother and Father from whom they received so much happiness and have said that He is omnipresent, and this is why they continue to fight and quarrel among themselves.

Song: Salutations to Shiva.

Essence for dharna:
1. In order to claim your inheritance of heaven from the Father, while living at home with your family, look after your creation and become as pure as a lotus.
2. Show everyone the way to become happy for 21 generations. Sit on the pyre of knowledge and change from shudras to Brahmins and then to deities.

Blessing: May you be an embodiment of remembrance and remain soul conscious with the light and might of knowledge.

Your eternal form is of the incorporeal point of light and your original form is the deity form. You will be able to have both forms in your awareness when you have the practice of remaining in the stage of soul consciousness on the basis of the light and might of knowledge. To become a Brahmin means to become an embodiment of the light and might of knowledge. Those who are embodiments of remembrance remain content themselves and also make others content.

Slogan: To experience greatness in something ordinary is to be a great soul.
 

24-8-2012:

 

मुरली सार:- ''मीठे बच्चे - बाप का फरमान है देही-अभिमानी बनो, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनाओ, निश्चयबुद्धि बन बाप से पूरा वर्सा लो''


प्रश्न: अन्त में शरीर छोड़ने समय हाय-हाय किन्हों को करनी पड़ती है?


उत्तर: जो जीते जी मरकर पूरा पुरूषार्थ नहीं करते हैं, पूरा वर्सा नहीं लेते हैं, उन्हें ही अन्त में हाय-हाय करनी पड़ती है।


प्रश्न:- इस समय अनेक प्रकार के लड़ाई-झगड़े वा पार्टीशन आदि क्यों हैं?


उत्तर:- क्योंकि सब अपने असली पिता को भूल आरफन, निधनके बन गये हैं। जिस मात-पिता से घनेरे सुख मिले थे, उसे भूल सर्वव्यापी कह दिया है, इसलिए आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं।


गीत:- ओम् नमो शिवाए....


धारणा के लिए मुख्य सार:
1)
बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए गृहस्थ व्यवहार में रहते, रचना की सम्भाल करते हुए कमल फूल समान पवित्र बनना है।
2)
हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सुखी बनाने का रास्ता बताना है। ज्ञान चिता पर बैठ शूद्र से ब्राह्मण और फिर देवता बनना है।


वरदान: नॉलेज की लाइट और माइट द्वारा सोलकान्सेस रहने वाले स्मृति स्वरूप भव


आपका अनादि रूप निराकार ज्योति स्वरूप आत्मा है और आदि स्वरूप है देव आत्मा। दोनों स्वरूप सदा स्मृति में तब रहेंगे जब नॉलेज की लाइट-माइट के आधार से सोलकान्सेस स्थिति में रहने का अभ्यास होगा। ब्राह्मण बनना अर्थात् नॉलेज की लाइट-माइट के स्मृति स्वरूप बनना। जो स्मृति स्वरूप हैं, वह स्वयं भी सन्तुष्ट रहते और दूसरों को भी सन्तुष्ट करते हैं।


स्लोगन: साधारणता में महानता का अनुभव करना ही महान आत्मा बनना है।

 

Song:  Om namah Shivay ओम् नमो शिवाए..... Salutations to Shiva….

http://www.youtube.com/watch?v=Uj8Uzs4ryWM&feature=youtu.be


Murli of August 23, 2012

23-8-2012:
Essence: Sweet children, never miss this spiritual study. It is through this study that you receive the sovereignty of the world.

Question: By having which firm faith would you never miss this study?

Answer: If you have the faith that God, Himself, in the form of the Teacher, is teaching you, that you receive the inheritance of the sovereignty of the world through this study, that you receive a high status and that the Father takes you back with Him, you would never miss this study. By not having faith, you do not pay attention to the study, and so you miss it.

Song: Our pilgrimage is unique.

Essence for dharna:
1. Follow the orders of the one Father and only listen to the one Father. Do not be influenced by the wrong things people say. You mustn't keep wrong company.
2. Always remember the study and your Teacher. You must definitely come to class every morning.

Blessing: May you be completely pure and with the royalty of purity reveal the speciality of Brahmin life.

The royalty of purity alone is the speciality of Brahmin life. You can tell when a child belongs to a royal family from his face and activities. In the same way, Brahmin life is recognised by the sparkle of purity. The sparkle of purity will be visible in your activities and on your face when there is no name or trace of impurity even in your thoughts. Purity means that there should be no influence of any vice or impurity for only then can you be said to be completely pure.

Slogan: A holy swan is one who transforms the wasteful into powerful.
 

23-8-2012:


मुरली सार:- ''मीठे बच्चे - इस रूहानी पढ़ाई को कभी मिस नहीं करना, इस पढ़ाई से ही तुम्हें विश्व की बादशाही मिलेगी''

प्रश्न: कौन सा निश्चय पक्का हो तो पढ़ाई कभी भी मिस न करें?

उत्तर: अगर निश्चय हो कि हमें स्वयं भगवान टीचर रूप में पढ़ा रहे हैं। इस पढ़ाई से ही हमें विश्व की बादशाही का वर्सा मिलेगा और ऊंच स्टेटस भी मिलेगा, बाप हमें साथ भी ले जायेंगे - तो पढ़ाई कभी मिस न करें। निश्चय न होने कारण पढ़ाई पर ध्यान नहीं रहता, मिस कर देते हैं।

गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं...

धारणा के लिए मुख्य सार:
1)
एक बाप के ही फरमान पर चलना है, बाप से ही सुनना है। मनुष्यों की उल्टी बातें सुन उनके प्रभाव में नहीं आना है। उल्टा संग नहीं करना है।
2)
पढ़ाई और पढ़ाने वाले को सदा याद रखना है। सवेरे-सवेरे क्लास में जरूर आना है।

वरदान: प्योरिटी की रॉयल्टी द्वारा ब्राह्मण जीवन की विशेषता को प्रत्यक्ष करने वाले सम्पूर्ण पवित्र भव

प्योरिटी की रॉयल्टी ही ब्राह्मण जीवन की विशेषता है। जैसे कोई रॉयल फैमिली का बच्चा होता है तो उसके चेहरे से, चलन से मालूम पड़ता है कि यह कोई रॉयल कुल का है। ऐसे ब्राह्मण जीवन की परख प्योरिटी की झलक से होती है। चलन और चेहरे से प्योरिटी की झलक तब दिखाई देगी, जब संकल्प में भी अपवित्रता का नाम-निशान न हो। प्योरिटी अर्थात् किसी भी विकार वा अशुद्धि का प्रभाव न हो तब कहेंगे सम्पूर्ण पवित्र।

स्लोगन: होलीहंस वह है जो व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन कर दे।

Song: Hamare Tirth nyare hai... हमारे तीर्थ न्यारे हैं... Our pilgrimage is unique…



http://www.youtube.com/watch?v=2cZBbi5Ch8Q&feature=email


LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...